Total Pageviews

Tuesday, July 05, 2011


           ( यादें ) 

भूली बिसरी यादें निकली 
जब भी तेरी बातें निकली 

खिली जख्म की फिर बगियाँ
दोस्तों की घातें निकली



चरणदीप अजमानी, पिथौरा 9993861181
Ajm.charan@gmail.com
Ajmani61181.blogspot.com
 

No comments:

Post a Comment